दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्रम् | Daridra Dahan Shiv Stotra | Shiv Daridra Dahan Stotra

Daridra Dahan Shiv Stotra

Daridra Dahan Shiv Stotra – “दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्र” भगवान शिव की महिमा को प्रकट करने वाला एक प्रमुख स्तोत्र है। इस स्तोत्र में शिव के विभिन्न नाम और गुणों की महत्वपूर्ण प्रशंसा की गई है, जो दारिद्र्य और दुःख का नाश करने वाले हैं। स्तोत्र में भगवान शिव की महानता, शक्तिशाली रूप, दुःखों का नाश करने की शक्ति, और उनके भक्तों के प्रति कृपा का वर्णन है। यह स्तोत्र भक्तिपूर्ण उपासना का हिस्सा होता है और शिव भक्तों द्वारा प्रयुक्त होता है।

Daridra Dahan Shiv Stotra Hindi – Dukh Daridra Dahan Shiv Stotra

 

विश्वेश्वराय नरकार्णव तारणाय
कर्णामृताय शशिशेखर धारणाय
कर्पूरकांति धवलाय जटाधराय
दारिद्र्य दु:ख दहनाय नम: शिवाय…

दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्र और अर्थ – जो संसार के स्वामी हैं, दुखों को नष्ट करने वाले हैं जैसे नरक की तरंगों से उद्धार करने वाले हैं, अपने कानों से श्रवण करने में अमृत के समान नाम रखे हुए हैं, अपनी भाली पर चन्द्रमा को आभूषण की भाँति धारण करने वाले हैं, कर्पूर की तरह की कांति वाले और धवल वर्ण वाले जटाधारी हैं, दारिद्र्य और दुःख का नाश करने वाले उन शिव को मैं नमस्कार करता हूँ।

 

गौरी प्रियाय रजनीशकलाधराय
कालान्तकाय भुजगाधिप कंकणाय
गंगाधराय गजराज विमर्दनाय
दारिद्र्य दु:ख दहनाय नम: शिवाय…

दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्र और अर्थ – जो माता गौरी के अत्यधिक प्रिय हैं, रजनीश्वर (चन्द्रमा) की कला को अपने पर धारण करने वाले हैं, काल के भी अन्तक (यम) के रूप में हैं, नागराज को कंकण की भाँति अपने आभूषण में धारण करने वाले हैं, अपने शिरस्तर पर गंगा को धारण करने वाले हैं, गजराज का वशीकरण करने वाले हैं, दारिद्र्य और दुःख का नाश करने वाले उन शिव को मैं नमस्कार करता हूँ।

भक्तिप्रियाय भवरोग भयापहाय
उग्राय दुर्गभवसागर तारणाय
ज्योतिर्मयाय गुणनाम सुनृत्यकाय
दारिद्र्य दु:ख दहनाय नम: शिवाय…

दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्र और अर्थ -जो भक्तों के प्रिय हैं, संसार के रूपों वाले रोग और भय का नाश करने वाले हैं, संहार के समय उग्र रूप धारण करने वाले हैं, दुर्गम भवसागर से पार करने वाले हैं, ज्योति स्वरूप होकर अपने गुण और नाम के अनुसार सुंदर नृत्य करने वाले हैं, दारिद्र्य रूपी दुःख का नाश करने वाले उन शिव को मैं नमस्कार करता हूँ।

चर्माम्बराय शवभस्म विलेपनाय
भालेक्षणाय मणिकुंडल मण्डिताय
मंजीर पादयुगलाय जटाधराय
दारिद्र्य दु:ख दहनाय नम: शिवाय…

दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्र और अर्थ – जो बाघ की त्वचा को धारण करने वाले हैं, चिता अभिमेष को आलंबित करने वाले हैं, भाल में तीसरा नेत्र अपने शोभायमान करने वाले हैं, मणियों से सजीवित कुण्डलों से आभूषित हैं,  अपने चरणों में नूपुर बाजाने वाले और जटाओं की धारणा करने वाले हैं, दारिद्र्य रूपी दुःख का नाश करने वाले शिव को मेरा नमन है।

पंचाननाय फनिराज विभूषणाय
हेमांशुकाय भुवनत्रय मण्डिताय
आनंदभूमिवरदाय तमोमयाय
दारिद्र्य दु:ख दहनाय नम: शिवाय…

दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्र और अर्थ – जो पांच मुख वाले नागराज रूपी आभूषण से आलंबित हैं, सोने की किरनों के समान चमकते हैं, आनंदभूमि (काशी) को वर प्रदान करने वाले हैं, सृष्टि के संहार के लिए तमोगुण से युक्त होने वाले हैं, दारिद्र्य रूपी दुःख का नाश करने वाले शिव को मेरा नमन है।

भानुप्रियाय भवसागर तारणाय
कालान्तकाय कमलासन पूजिताय
नेत्रत्रयाय शुभलक्षण लक्षिताय
दारिद्र्य दु:ख दहनाय नम: शिवाय…

दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्र और अर्थ – जो सूर्य के अत्यधिक प्रिय हैं, भवसागर से उद्धार करने वाले हैं, काल के लिए भी महाकालस्वरूप हैं, और जिनकी कमलासन (ब्रह्मा) पूजा करते हैं, तीन नेत्रों को अपने पर धारण करने वाले हैं, शुभ लक्षणों से युक्त हैं, दारिद्र्य रूपी दुःख का नाश करने वाले शिव को मेरा नमस्कार है।

रामप्रियाय रघुनाथवरप्रदाय
नागप्रियाय नरकार्णवतारणाय
पुण्येषु पुण्यभरिताय सुरर्चिताय
दारिद्र्य दु:ख दहनाय नम: शिवाय…

दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्र और अर्थजो राम के अत्यधिक प्रिय हैं, रघुनाथजी को वर देने वाले हैं, सर्पों के विरोधी हैं, भवसागररूपी नरक से उद्धार करने वाले हैं, पुण्यवानों में अत्यधिक पुण्यवान हैं, जिनकी समस्त देवताएँ पूजा करती हैं, दारिद्र्य रूपी दुःख का नाश करने वाले शिव को मेरा नमस्कार है।

 

Daridra Dahan Shiv Stotra in Hindi

मुक्तेश्वराय फलदाय गणेश्वराय
गीतप्रियाय वृषभेश्वर वाहनाय
मातंग चर्मवसनाय महेश्वराय
दारिद्र्य दु:ख दहनाय नम: शिवाय…

दारिद्र्य दहन शिव स्तोत्र और अर्थ – जो मुक्तजनों के स्वामी स्वरूप में हैं, चारों पुरुषार्थों का फल देने वाले हैं, जिन्हें गीत पसंद है और जिनका वाहन नंदी है, जिन्होंने गजचर्म को वस्त्ररूप में धारण किया है, वे महेश्वर हैं, दारिद्र्य रूपी दुःख का नाश करने वाले शिव को मेरा नमस्कार है।

 

Daridra Dahan Shiv Stotra

 

Daridra Dahan Shiv Stotra pdf – Daridra Dahan Shiv Stotra pdf in Hindi 

 

Download “दारिद्र्य-दहन-शिव-स्तोत्रम्.pdf”

दारिद्र्य-दहन-शिव-स्तोत्रम्.pdf – Downloaded 48 times – 3.55 MB

 

Read this also: 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *